जानकारी के अनुसार सुबह के समय अजीम मोहम्मद नाम का किशोर सैला तालाब में एक घर में दूध देने के लिए आया।उस समय घर में तीन वर्ष की बच्ची अकेली थी। उसका पिता काम पर गया था और मां भी किसी काम से बाहर थी। इसी का फायदा उठाते हुए किशोर बच्ची को अपने साथ बाथरूम ले गया और दुष्कर्म का प्रयास करने लगा। समय रहते मां घर पहुंच गई और बेटी की रोने की आवाज सुनकर बाथरूम की तरफ गई, लेकिन तब तक किशोर फरार हो गया था।
शहर के सैला तालाब इलाके में शनिवार की सुबह रसाना कांड जैसी एक और दरिंदगी होने से बची। दूध देने आए दूसरे समुदाय के किशोर ने तीन वर्ष की बच्ची के साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया। समय रहते बच्ची की मां घर पहुंच गई और युवक मौके से फरार हो गया।
युवक के साथ एक महिला के भी होने की बात सामने आ रही है। इस घटना के विरोध में विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने जोरदार प्रदर्शन किया। एसएसपी ने कहा कि आरोपी को पकड़ने के लिए तीन टीमें गठित की गई हैं। जानकारी के अनुसार सुबह के समय अजीम मोहम्मद नाम का किशोर सैला तालाब में एक घर में दूध देने के लिए आया।

उस समय घर में तीन वर्ष की बच्ची अकेली थी। उसका पिता काम पर गया था और मां भी किसी काम से बाहर थी। इसी का फायदा उठाते हुए किशोर बच्ची को अपने साथ बाथरूम ले गया और दुष्कर्म का प्रयास करने लगा। समय रहते मां घर पहुंच गई और बेटी की रोने की आवाज सुनकर बाथरूम की तरफ गई, लेकिन तब तक किशोर फरार हो गया था।
जब किशोर मौके से फरार हुआ तो उसके साथ एक महिला के देखने जाने की भी बात बताई जा रही है। बच्ची की मां ने पड़ोसियों को यह बात बताई और फिर इसके बारे में पुलिस को भी सूचित किया गया। पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई। मामला आग की तरह फैल गया। 
विहिप और बजरंग दल के सदस्य थाने पर पहुंच गए और पुलिस पर आरोपी को पकड़ने का दबाव बनाने लगे। थाने से निकलने के बाद सभी ने टाउन हाल चौक पर प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस दौरान मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई।विहिप के सदस्यों को समझाने का एसएचओ ने बहुत प्रयास किया, लेकिन प्रदर्शनकारी नहीं माने और प्रदर्शन करते हुए इंदिरा चौक पर पहुंच गए। इंदिरा चौक पर प्रदर्शनकारियों ने काफी समय तक धरना दिया। मामला गरमाता देख पुलिस तुरंत सक्रिय हो गई। फिलहाल आरोपी तो नहीं पकड़ा गया, अलबत्ता पूछताछ के लिए आरोपी के परिवार के चार सदस्यों को थाने पर रखा गया है।आरोपी को पकड़ने के लिए पुलिस की तीन टीमों का गठन किया गया है। गठित टीमों ने छापेमारी शुरू कर दी है। मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपी का कोई सहयोग कर रहा है या नहीं, इसके बारे में आरोपी के पकड़े जाने के बाद ही पता चलेगा।