-अमित शाह ने कहा, गुलाम नबी कहते हैं कि धारा 370 के जरिये जम्मू-कश्मीर भारत से जुड़ा था, जबकि यह गलत है क्योंकि महाराजा हरि सिंह ने विलयपत्र पर 27 अक्तूबर 1947 को हस्ताक्षर किया था, जबकि धारा 370 1954 में लागू हुआ था.

- MDMK नेता वाइको ने राज्यसभा में कहा, ''मैं इस आर्टिकल 370 को हटाने के प्रस्ताव का विरोध करता हूं. यह शर्मनाक दिन है, यह लोकतंत्र की हत्या है.''

- पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोरबजी ने आर्टिकल 370 हटाने के सरकार के संकल्प पर कहा, ''यह राजनीतिक फैसला है हालांकि यह बुद्धिमानी भरा फैसला नहीं है.''

- शिवसेना नेता संजय राउत ने राज्यसभा में कहा, ''आज जम्मू और कश्मीर लिया, कल बलूचिस्तान, PoK लेंगे. मुझे विश्वास है कि देश के पीएम अखंड हिंदुस्तान का सपना पूरा करेंगे.''

- बीजेपी नेता अरुण जेटली ने ट्वीट कर लिखा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी और गृह मंत्री श्री अमित शाह को एक ऐतिहासिक गड़बड़ी को सुधारने के लिए मेरी बधाई।