कोलकाता 01 दिसंबर। अंधत्व निवारण में जुटी शहर के स्वयंसेवी संस्था प्रेम मिलन(कोलकाता) ने 301  शिविर के सफलतापूर्वक होने पर रविवार को दोपहर में भजन संध्या का आयोजन किया। प्रेम मिलन (कोलकाता) के निःशुल्क आँख जांच केंद्र में स्तिथ आलौकिक श्रंगार के बीच भजन गायक रवि बेरीवाल ने अपने साथी कलाकारों के साथ कर्णप्रिय भजन सुनाकर श्रौताओं को भाव-विभोर कर दिया। इस मौके पर स्व बंशीधर जी मोर, स्व मोहिनी देवी मोर और उनके पौत्र स्व रमेश मोर की पुण्य स्मृति में आयोजित निश्शुल्क आँख ऑपरेशन में दिप जलाकर शकिलूर रेहमान ने इस शिविर का उद्घाटन किया I उन्होंने अपने व्यक्तित्व में कहा प्रेम मिलन में कोई जात पात नहीं है यहाँ आये हुए सभी रोगियों का मुफ्त में इलाज किया जाता है I शिविर में सज्जन सराफ, सचिव चंद्रकांत सराफ,जोरासांको की विधायिका स्मिता बक्शी, पूर्व विधायक संजय बक्शी, पार्षद एल्लोरा शाह, पार्षद विजय ओझा, स्वपन बर्मन, अशोक झा, मनोज सिंह परासर, जगमोहन बागला, दामोदर मोर, प्रकाश पारख, बिनोद अग्रवाल, पवन भगत, राज कुमार बोथरा, अभिषेक मोर, दीपक बंका, अजय पंसारी, संजय बंका, बिमल चंद जैन, सम्पतमल बछावत, धर्मानुरागी लक्ष्मीकांत तिवारी, मनोज सिंह, राजेश मोर, अशोक चोखानी, बीरेंद्र मोदी, सज्जन अग्रवाल, अजय सिंह, अजय शाह, सुनील अग्रवाल, बिनोद सिंह, शंकर श्रीवास्तव, समेत कई जाने-माने लोग बतौर अतिथि उपिस्थत थे। अतिथियों को माला पहनाकर सम्मानित किया गया। सभी वक्ताओं ने कहा पुरे पश्चिम बंगाल में केवल प्रेम मिलन ही ऐसी संस्था है जो प्रत्येक महीने के प्रत्येक हफ्ते मुफ्त में ऑपरेशन करती है I सभी अतिथियों ने प्रेम मिलन द्वारा किए जा रहे सेवा र्कायों की प्रशंसा की और कहा कि प्रेम मिलन ने निःशुल्क 300  शिविर पुरे करके एक कीर्तिमान स्थापित  किया है । पूर्व विधायक संजय बक्शी ने कहा की प्रेम मिलन के पदाधिकारी व सदस्यों के लिए अवकाश का दिन यानि मानव सेवा का दिन, पीड़ितों की सेवा का दिन है I प्रेम मिलन के निष्ठावान सदस्यों की ये भावना प्रेम मिलन को न केवल एक अलग पहचान दिलाती है बल्कि अन्य संस्थाओ को प्रेरणा भी प्रदान करती है I विधायिका स्मिता बक्शी ने प्रेम मिलन के नेत्र अस्पताल को मरीजों का ऐसा मंदिर बताया जहा उनके हर कष्ट दूर हो जाते है I डॉ शुभ्रो घोषाल एवं आँखों की तकनिकी जानकार रेनू सिंह ने आज 50 PHACO ऑपरेशन को सफल बनाया I आयोजन की सफलता मे आत्माराम गोयनका, महेन्द्र टिबड़ेवाल, राजा राम कंदोई, राज कुमार बागला, रोहित पारख, मोहित पारख, दिलीप सराफ (टिंकू), संजय अग्रवाल, रतन जायसवाल, विशाल सराफ, विकास सराफ, कमलकांत मोदी, नरेश शर्मा, नवीन सराफ, नविन हरलालका, मनोज जयसवाल, निधीश अग्रवाल, कृष्णा खेमका, कृष्णा कुमार मुंध्रा, अशोक शर्मा, पुष्पा देवी मोर, कुसुम मोर, अंजू मोर, ज्योति सराफ, स्वाति सराफ, प्रज्ञा सराफ, सरिता पारख, स्वाति मोदी  का सहयोग सराहनीय रहा।